Maa Bagalamukhi
 

 

Ma Bagalamukhi relieves a person from problems related to his enemies and negative energies. Ma Bagalamukhi is also known as Pitambara. It is believed that she loves yellow colour and hence, material which is yellow in colour is used for her puja etc. Ma Bagalamukhi’s complexion is also a shade of yellow and a person should wear yellow coloured clothes while worshipping Ma Bagalamukhi.
 
Devi Bagalamukhi is considered to be the eighth Mahavidya out of ten Mahavidyas. She possesses immense power and is worshipped to be victorious over enemies, arguments etc. Worshipping her relieves a person from all sorts of problems. Bagala has been derived from the Sanskrit word, Valga. This means ‘bride’ in Sanskrit. Ma Bagalamukhi has been given this name because of her beauty.
 
Ma Bagalamukhi can be seen riding a beautiful chariot and sitting on a throne. Both of these are embedded with gemstones. Ma Bagalamukhi’s devotees are victorious in every field. She is most impressed if yellow flowers and coconut are dedicated to her. Deepaks should also be dedicated with turmeric. Yellow clothes can also be offered. Reciting Ma Bagalamukhi’s mantras relieves a person from all problems.
 
 
 
माँ बगलामुखी स्तंभव शक्ति की अधिष्ठात्री हैं अर्थात यह अपने भक्तों के भय को दूर करके शत्रुओं और उनके बुरी शक्तियों का नाश करती हैं. माँ बगलामुखी का एक नाम पीताम्बरा भी है इन्हें पीला रंग अति प्रिय है इसलिए इनके पूजन में पीले रंग की सामग्री का उपयोग सबसे ज्यादा होता है. देवी बगलामुखी का रंग स्वर्ण के समान पीला होता है अत: साधक को माता बगलामुखी की आराधना करते समय पीले वस्त्र ही धारण करना चाहिए.
 
देवी बगलामुखी दसमहाविद्या में आठवीं महाविद्या हैं यह स्तम्भन की देवी हैं. संपूर्ण ब्रह्माण्ड की शक्ति का समावेश हैं माता बगलामुखी शत्रुनाश, वाकसिद्धि, वाद विवाद में विजय के लिए इनकी उपासना की जाती है. इनकी उपासना से शत्रुओं का नाश होता है तथा भक्त का जीवन हर  प्रकार की बाधा से मुक्त हो जाता है. बगला शब्द संस्कृत भाषा के वल्गा का अपभ्रंश है, जिसका अर्थ होता है दुलहन है अत: मां के अलौकिक सौंदर्य और स्तंभन शक्ति के कारण ही इन्हें यह नाम प्राप्त है.
 
बगलामुखी देवी रत्नजडित सिहासन पर विराजती होती हैं रत्नमय रथ पर आरूढ़ हो शत्रुओं का नाश करती हैं. देवी के भक्त को तीनो लोकों में कोई नहीं हरा पाता, वह जीवन के हर क्षेत्र में सफलता पाता है पीले फूल और नारियल चढाने से देवी प्रसन्न होतीं हैं. देवी को पीली हल्दी के ढेर पर दीप-दान करें, देवी की मूर्ति पर पीला वस्त्र चढाने से बड़ी से बड़ी बाधा भी नष्ट होती है, बगलामुखी देवी के मन्त्रों से दुखों का नाश होता है.